पंचांग के अनुसार चैत्र नवरात्रि का आरंभ 9 अप्रैल से होगा। 9 दिनों का यह महापर्व राम नवमी के साथ 17 अप्रैल को समाप्‍त हो जाएगा। 

चैत्र नवरात्रि प्रतिपदा का आरंभ 8 अप्रैल को देर रात 11 बजकर 50 मिनट पर होगा।

वहीं, अगले दिन यानी 9 अप्रैल को रात के समय 8 बजकर 30 मिनट पर समाप्त हो जाएगी।

इसलिए उदया तिथि की मान्‍यता के अनुसार नवरात्रि का आरंभ 9 अप्रैल से होगा।

हिंदू धर्म में नवरात्रि के 9 दिनों का महत्‍व बहुत ही खास माना जाता है। इन 9 दिनों में आद‍िशक्ति मां दुर्गा के 9 स्‍वरूपों की पूजा की जाती है।

पंचांग की गणना में बताया गया है कि इस बार कलश स्‍थापना के लिए सिर्फ 50 मिनट का समय मिल रहा है।

कलश स्‍थापना सुबह 6 बजकर 12 मिनट से लेकर 10 बजकर 23 मिनट तक कर सकते हैं। 4 घंटे 11 मिनट का यह मुहूर्त सामान्‍य मूहूर्त माना जा रहा है।

वहीं घटस्‍थापना के लिए अभिजीत मुहूर्त 12 बजकर 3 मिनट से 12 बजकर 53 मिनट तक कुल 50 मिनट का है।

इस बार चैत्र नवरात्रि के पहले दिन सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत योग का शुभ संयोग भी बन रहा है। यह सर्व कार्य सिद्धि के लिए बहुत ही शुभ माना जा रहा है।

यह जानकारी सिर्फ मान्यताओं, धार्मिक ग्रंथों और विभिन्न माध्यमों पर आधारित है। किसी भी जानकारी को मानने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें।