श्रीकृष्ण के किस ओर बैठाए राधा रानी की मूर्ति?

अक्सर आपने भगवान श्री कृष्ण और राधा की एक साथ मूर्ति देखी होगी। एक साथ मूर्ति

श्रीकृष्ण के किस ओर बैठाए राधा रानी की मूर्ति?लेकिन क्या आपको यह पता है कि राधा रानी को श्री कृष्ण के किस ओर स्थापित करना चाहिए? चलिए इस बारे में बताते हैं।

माना जाता है कि राधा रानी श्री कृष्ण की आराध्य शक्ति हैं।

श्री राधा रानी के बिना श्री कृष्ण की प्रतिमा कभी घर में स्थापित नहीं करनी चाहिए क्योंकि बिना राधा के श्री कृष्ण उस स्थान पर निवास नहीं करते हैं।

हालांकि श्री राधा रानी को अगर स्थापित कर रहे हैं तो उनकी दिशा और स्थान का भी ध्यान रखें।

बता दें कि श्री राध रानी श्री कृष्ण कि प्रेमिका हैं। लेकिन दोनों का विवाह भी हुआ था। हालांकि यह विवाह गुप्त रूप से ब्रह्म देव ने कराया था।

अब चूंकि वह भगवान श्री कृष्ण की पत्नी थी, इसलिए उनको उल्टे हाथ पर ही स्थापित करना चाहिए। यह स्थान पत्नी का माना गया है।

शास्त्रों में भी श्रीराधा रानी को बाईं ओर स्थापित करने का वर्णन मिलता है। श्री राधा रानी को दाईं ओर स्थापित करना शुभ नहीं मानते हैं।

ऐसी मान्यता है कि राधा रानी को श्री कृष्ण की सीधी ओर स्थापित करने से वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है।