इन शुभ योगों में मनाई जाएगी चैत्र नवरात्रि की महाअष्टमी, जानें कन्या पूजन का मुहूर्त

चैत्र नवरात्रि की शुरुआत इस बार 9 अप्रैल, मंगलवार से हो चुकी है और 17 अप्रैल को रामनवमी के साथ चैत्र नवरात्रि का समापन होगा.

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार चैत्र नवरात्रि की महाअष्टमी बहुत ही खास मानी जा रही है क्योंकि महाअष्टमी पर दुर्लभ संयोग बनने जा रहा है.

दरअसल, इस बार महाअष्टमी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग और धृति योग का निर्माण होने जा रहा है.

16 अप्रैल को महाअष्टमी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 5:16 से लेकर 17 अप्रैल तक रहेगा. वहीं, रवि योग का भी यही समय रहेगा. इसके अलावा धृति योग 15 अप्रैल को रात 11:09 मिनट पर शुरू होगा और समापन 16 अप्रैल को रात 11:17 मिनट पर होगा.

ज्योतिषियों की मानें तो, ये सभी योग बहुत ही शुभ माने जाते हैं. अगर इन योगों में मां दुर्गा की उपासना की जाए तो जातक के जीवन की सभी परेशानियां दूर हो सकती है.

वहीं, धृति योग की बात की जाए तो इस योग में कोई भी कार्य करना बहुत ही शुभ होता. इस योग में ज्यादातर निर्माण कार्य किए जाते हैं.

महाअष्टमी के दिन नवदुर्गा के आठवें स्वरूप माता महागौरी की उपासना की जाती है. साथ ही इस दिन कन्या पूजन भी किया जाता है.

महाअष्टमी के दिन कन्या पूजन अभिजीत मुहूर्त में करना चाहिए. इस दिन अभिजीत मुहूर्त सुबह 11:55 से लेकर दोपहर 12:47 मिनट तक है.