पितरों की शांति के लिए बस करें ये उपाय

अमावस्या तिथि पितरों की पूजा के लिए शुभ मानी जाती है। इस दिन पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण, पिंडदान और श्राद्ध कर्म किए जाते हैं।

ज्योतिष शास्त्र में इस दिन के लिए कुछ शक्तिशाली उपाय बताए गए हैं, जिन्हें करने से आपके जीवन में चमत्कारी प्रभाव देखने को मिलेगा।

वैशाख अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ के नीचे तिल के तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद उसकी 11 बार परिक्रमा करें।

फिर घर की दक्षिण दिशा में एक मुट्ठी तिल सरसों के तेल में भिगोकर रखें। यह दिशा पूर्वजों की दिशा मानी जाती है।

इसलिए जो जातक इस उपाय को करते हैं उन्हें पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

वैशाख अमावस्या के दिन पितृ स्तोत्र व श्रीमद्भागवत कथा का पाठ करना या सुनना चाहिए। ऐसा करने से पितृ दोष से मुक्ति मिलती है।

साथ ही घर में शुभता का आगमन होता है। यह दिन विष्णु पूजन के लिए भी विशेष माना जाता है।

वैशाख अमावस्या के दिन गाय, कौआ, कुत्ता, चिड़िया आदि जीवों को भोजन व पानी का प्रबंध करें। ऐसा कहा जाता है इससे वे तृप्त होते हैं।