ये है दुनिया की सबसे ज्यादा एवरेज देनें वाली कार, सिर्फ 1 किलो ईंधन में 250 किलोमीटर से ज्यादा, जानें फीचर्स और पूरी माहिती

ये है दुनिया की सबसे ज्यादा एवरेज देनें वाली कार, सिर्फ 1 किलो ईंधन में 250 किलोमीटर से ज्यादा, जानें फीचर्स और पूरी माहिती

पेट्रोल और डीजल और स्वच्छ ऊर्जा की लगातार बढ़ती मांग ने दुनिया को वैकल्पिक ईंधन के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया है। अभी तक कार कंपनियां इलेक्ट्रिक कारों की मांग बढ़ाती रही हैं लेकिन इलेक्ट्रिक कारों की अपनी सीमाएं हैं। इस कारण इसे जीवाश्म ईंधन यानी पेट्रोल-डीजल का विकल्प माना जा रहा है।

लेकिन इन सबके बीच दुनिया की अग्रणी कार कंपनियों में से एक टोयोटा ने हाइड्रोजन आधारित कार का परीक्षण किया है। इस कार की सबसे बड़ी खासियत यह है कि एक बार ईंधन भरने के बाद यह 845 मील या 1360 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है, जो एक नया रिकॉर्ड है। टोयोटा ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराने का दावा किया है।

इलेक्ट्रिक कारों के नुकसान: इलेक्ट्रिक कारों को जीवाश्म ईंधन माना जाता है, लेकिन अब तक की सबसे बड़ी बाधा यह है कि सभी इलेक्ट्रिक कारों ने एक बार चार्ज करने पर लगभग 500 किमी की दूरी तय की है और फिर ऐसी कारों को चार्ज करने के लिए चार्जिंग स्टेशन की व्यवस्था की है। एक और समस्या इन कारों को चार्ज करने में लगने वाला समय है।

हाइड्रोजन कार: अब तक हाइड्रोजन इंजन को विकल्प के तौर पर नहीं देखा जाता था। दरअसल अब तक हाइड्रोजन का उत्पादन बहुत महंगा रहा है। इस मुद्रास्फीति के कारण, इसे एक व्यवहार्य विकल्प के रूप में नहीं देखा गया था। लेकिन नई तकनीकों की मदद से हाइड्रोजन उत्पादन की लागत में लगातार गिरावट आ रही है। भारत की सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनी, रिलायंस पेट्रोलियम के मालिक मुकेश अंबानी ने कहा कि अगले दशक में हाइड्रोजन उत्पादन की लागत लगभग 1 रुपये प्रति किलोग्राम तक गिर सकती है।

टोयोटा ने इस साल 23 और 24 अगस्त को कार का परीक्षण किया था। कार पेशेवर ड्राइवरों वेन गेर्डेस और बॉल विंगर द्वारा संचालित थी। महज पांच मिनट में कार का टैंक हाइड्रोजन से भर गया। यात्रा कैलिफोर्निया में टोयोटा तकनीकी केंद्र में शुरू हुई। मिराई कार ने इस बार हाइड्रोजन से भरकर 1360 किमी का सफर तय किया।

टोयोटा ने कहा कि उसकी हाइड्रोजन से चलने वाली कार का माइलेज 260 किलोमीटर प्रति किलोग्राम है। कैरी ने कुल 1360 किलोमीटर की यात्रा में 5.65 किलोमीटर हाइड्रोजन की खपत की। कार दो दिनों के लिए ऐसे ईंधन पर चलती थी।

टोयोटा मिराई को साल 2016 में लॉन्च किया गया था। यह कंपनी का पहला पल्स सेल इलेक्ट्रिक वाहन था, जो हाइड्रोजन से चलने वाली कार थी। उत्तरी अमेरिका में खुदरा बिक्री के लिए एक कार उपलब्ध है। लेकिन कंपनी ने एक बार ईंधन भरने के बाद इस कार द्वारा तय की गई दूरी के मामले में एक नया रिकॉर्ड बनाया है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *