भारतीय छात्रों ने बांस द्वारा बनाई दुनिया की पहली 100 प्रतिशत इको-फ्रेंडली कार

भारतीय छात्रों ने बांस द्वारा बनाई दुनिया की पहली 100 प्रतिशत इको-फ्रेंडली कार

मांग और आपूर्ति के असंतुलित चक्र के कारण कच्चे तेल का बाजार तेजी से बढ़ रहा है। तब से इस महीने कच्चे तेल की कीमत में हर हफ्ते बढ़ोतरी हो रही है। दरअसल, कच्चे तेल के बाजार में अमेरिकी कारण एक बार फिर हावी है। अमेरिका में कच्चे तेल का स्टॉक इन दिनों तीन साल के निचले स्तर पर है। इस बीच वहां पेट्रोलियम उत्पादों की खपत तेजी से बढ़ रही है। इसलिए हाजिर बाजार से खरीदारी जारी है।

यही वजह है कि गुरुवार को ब्रेंट क्रूड भी 78 78 प्रति बैरल को पार कर गया। यह जुलाई के आखिरी दिनों के बाद का उच्चतम स्तर है। भारतीय बाजार में आज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ। एक दिन पहले 18 दिन के गतिरोध के बाद शुक्रवार को डीजल के दाम में 20 पैसे की बढ़ोतरी की गई थी। उस दिन पेट्रोल के दाम नहीं बढ़े थे

शनिवार को दिल्ली के बाजार में इंडियन ऑयल (IOC) के पंपों पर पेट्रोल 101.19 रुपये प्रति लीटर और डीजल 88.82 रुपये प्रति लीटर था। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को देखकर लोग दूसरे विकल्प की तलाश में हैं। इसी कड़ी में केरल के छात्रों ने एक ईको फ्रेंडली कार बनाई है। जिससे ईंधन भी बनेगा और प्रदूषण नहीं फैलेगा।

केरल के तिरुवनंतपुरम में इंजीनियरिंग के छात्रों ने दुनिया की पहली 100% इको-फ्रेंडली इलेक्ट्रिक कार बनाई है। यह कार इलेक्ट्रिक है और बांस से बनी है। छात्रों ने शेल इको-मैराथन में प्रतिस्पर्धा करने के लिए कार का निर्माण किया। यह प्रतियोगिता छात्रों को नई खोज करने के लिए प्रेरित करती है। इस इको-फ्रेंडली कार के लिए बार्टन हिल गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों को सर्कुलर अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। यह कार इको फ्रेंडली मॉडल का प्रोटोटाइप है।

मॉडल को और बेहतर बनाने की कोशिश: रिसर्च टीम का कहना है कि कार की चेसिस को बेहतर बनाने की कोशिश की जा रही है। इस कार को और अधिक मॉड्यूलर बनाया जा सकता है। अब टू सीटर बांस की कार बनेगी। इसमें बांस फैब्रिक बॉडी और बांस चेसिस का इस्तेमाल किया जाएगा। शोध दल के सदस्य अर्जुन कहते हैं, ”यह कार ऑटोमोबाइल क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ नहीं है, लेकिन यह एक उदाहरण है कि पर्यावरण के अनुकूल कारें भी बनाई जा सकती हैं।

ये है एन्जिन: इस इको फ्रेंडली कार में 35 सीसी का आईसी इंजन लगा है, जिससे ईंधन की बचत होती है। इसे बनाने वाली टीम के सदस्य केविन फेलिसियस का कहना है कि इस इको-फ्रेंडली कार का कॉन्सेप्ट बड़ी कार कंपनियों को प्रेरित करेगा।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *