जमीन के नीचे से बच्चे के रोने की आवाज आ रही थी, मिट्टी को हटता कर देखा तो किसी चमत्कार से कम नहीं था

जमीन के नीचे से बच्चे के रोने की आवाज आ रही थी, मिट्टी को हटता कर देखा तो किसी चमत्कार से कम नहीं था

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थ नगर जिले के सनोरा गांव से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। बच्चे के रोने की आवाज अचानक गांव में बैठे लोगों ने सुनी। उन्होंने बच्चे की आवाज सुनी और उस दिशा में आगे बढ़ने लगे। आगे देखने पर एक बच्चा मिट्टी के टीले में दबा मिला।

बच्चे को अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है। उल्लेखनीय है कि सिद्धार्थनगर के सोनोरा गांव में कुछ लोग काम कर रहे थे। काम के दौरान उसने अचानक एक बच्चे के रोने की आवाज सुनी। लोग उस तरफ मुड़े जहां से रोने की आवाज आ रही थी।

शोर का पीछा करते हुए लोग उस स्थान पर पहुंच गए जहां भवन का निर्माण किया जा रहा था। इमारत के पास एक जंगल था जहाँ निर्माण कार्य चल रहा था। रोने की आवाज सुनकर जब लोगों ने कीचड़ हटाया तो देखा कि नवजात का पैर बाहर निकला हुआ है। इसके बाद धीरे-धीरे मिट्टी को हटाया गया और बच्चे को सावधानी से बाहर निकाला गया और तुरंत अस्पताल ले जाया गया।

वहां बच्चे का प्राथमिक उपचार किया गया। डॉक्टरों ने कहा कि बच्चे की हालत ठीक है, लेकिन उसके मुंह में कुछ कीचड़ था। ऐसा माना जाता है कि इस नवजात का जन्म हुआ और उसे तुरंत त्याग दिया गया। मामले में एक अजनबी के खिलाफ लखनऊ से 260 किलोमीटर दूर सिद्धार्थ नगर जिले में भी मामला दर्ज किया गया है।

नवजात का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जोगिया में चल रहा है। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी मानवेंद्र पाल ने बताया कि नवजात शिशु को देखकर लगता है कि कुछ समय पहले पैदा हुआ होगा। सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि मिट्टी नवजात के सांस की नली में चली गई, लेकिन अब वह स्वस्थ है।

डॉक्टर्स के साथ-साथ लोग इसे भगवान का चमत्कार मानते हैं। जहां नवजात को इतनी सावधानी से रखा जाता है, वहीं इस नवजात ने मिट्टी के बीच अपनी आंखें खोल दीं। यह भी आश्चर्य की बात है कि बच्चा बिना कुछ खाए-पिए मिट्टी के बीच रहता था।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *