Mahashivratri 2024 : बेहद खास होगी इस साल की महाशिवरात्रि, नोट कर लें पूजा का शुभ मुहूर्त…

Mahashivratri 2024 : बेहद खास होगी इस साल की महाशिवरात्रि, नोट कर लें पूजा का शुभ मुहूर्त…

Mahashivratri 2024 : का त्योहार बहुत खास माना जाता है. इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है। इस साल की महाशिवरात्रि कई मायनों में खास है. जानिए महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी।

वैसे तो शिवरात्रि हर माह आती है लेकिन फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को आने वाली शिवरात्रि को विशेष महत्व दिया जाता है। इसे महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस साल 2024 में महाशिवरात्रि का त्योहार 8 मार्च को आ रहा है। यह महाशिवरात्रि कई मायनों में बेहद खास मानी जा रही है. आइये जानते हैं ज्योतिषाचार्य डाॅ. महाशिवरात्रि 2024 के संबंध में अरविंद मिश्रा से महत्वपूर्ण जानकारी।

Mahashivratri 2024
Mahashivratri 2024

इसलिए है महाशिवरात्री बेहद खास

ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र का कहना है कि इस बार महाशिवरात्रि पर अद्भुत संयोग बन रहा है। इस साल प्रदोष और महाशिवरात्रि का त्योहार एक ही दिन मनाया जाएगा. प्रदोष और महाशिवरात्रि दोनों ही दिन महादेव को समर्पित हैं। प्रदोष व्रत त्रयोदशी तिथि को रखा जाता है, जबकि महाशिवरात्रि व्रत फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को रखा जाता है।

पंचांग के अनुसार 8 मार्च, शुक्रवार को पूरे दिन त्रयोदशी तिथि रहेगी और चतुर्दशी तिथि रात 09:57 बजे शुरू होगी, जो अगले दिन 9 मार्च को शाम 06:17 बजे तक रहेगी. प्रदोष व्रत उदयातिथि के अनुसार किया जाता है जबकि महाशिवरात्रि व्रत में रात्रि का विशेष महत्व होता है। इस कारण शुक्र प्रदोष और महाशिवरात्रि व्रत एक ही दिन यानी 8 मार्च को मनाया जाएगा।

Mahashivratri 2024
Mahashivratri 2024

महाशिवरात्रि पर सर्वार्थ सिद्धि योग

Mahashivratri 2024 :  इस साल महाशिवरात्रि पर सर्वार्थ सिद्धि योग भी बन रहा है, जो इस त्योहार को और भी खास बनाता है। माना जाता है कि सर्वार्थ सिद्धि योग में मन से किया गया कोई भी कार्य फलदायी होता है। ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र के मुताबिक 8 मार्च को सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 06:40 बजे से 10:40 बजे तक रहेगा. इसके अलावा आज पूरे दिन शिव योग रहेगा।

यह भी पढ़ें : Mahashivratri 2024: कितने प्रकार के होते हैं शिवलिंग? घर पर किस शिवलिंग की करनी चाहिए पूजा? जानें इससे होने वाले लाभ…

रात्रि पूजा के 4 शुभ मुहूर्त
महाशिवरात्रि को जागरण की रात्रि कहा जाता है। इस दिन रात्रि जागरण करने का धार्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व है। वैज्ञानिक रूप से कहें तो, महाशिवरात्रि की रात ब्रह्मांड में ग्रह और तारे ऐसी स्थिति में होते हैं कि शरीर के अंदर की ऊर्जा स्वाभाविक रूप से ब्रह्मांड की ओर ऊपर की ओर बढ़ने लगती है। इक्विनोस का मतलब है कि इस समय ग्रह का केंद्रीय फ्यूगल बल एक विशेष तरीके से काम करता है और यह बल ऊपर की ओर जाता है।

Mahashivratri 2024
Mahashivratri 2024

ऐसे में महाशिवरात्रि की रात रीढ़ की हड्डी सीधी करके बैठने की सलाह दी जाती है। कई भक्त महाशिवरात्रि पर रात में विशेष पूजा करते हैं। अगर आप भी महाशिवरात्रि पर विशेष पूजा करना चाहते हैं तो जानिए रात्रि पूजा के चार पहर में पूजा का समय-

रात्रि के प्रथम प्रहर का समय – सायं 06:25 बजे से रात्रि 09:28 बजे तक
रात्रि द्वितीय जागरण पूजा का समय – 9 मार्च को रात्रि 09:28 बजे से रात्रि 12:31 बजे तक
रात्रि तृतीया प्रहर पूजा समय – रात्रि 12:31 बजे से प्रातः 3:34 बजे तक
रात्रि चतुर्थ प्रहर पूजा समय – प्रातः 03:34 बजे से प्रातः 06:37 बजे तक

महाशिवरात्रि पर शिव की पूजा करें
Mahashivratri 2024 : महाशिवरात्रि पर भगवान शिव और माता पार्वती की विशेष पूजा की जाती है। इस दिन शिवलिंग को पंचामृत से स्नान कराना चाहिए। गंगा जल, चंदन, बेलपत्र, भांग, धतूरा, गन्ने का रस, गन्ने का फूल, गन्ने का फूल, फल, मिष्ठान्न, मिष्ठान, इत्र, दक्षिणा, धूप आदि चढ़ाएं। इसके बाद शिव चालीसा, रुद्राष्टकम और मंत्र आदि का जाप करें और विधिपूर्वक आरती करें।

more article : iPhone 14 : ऐपल का सस्ता iPhone, सामने आया जबर्दस्त लुक, देगा iPhone 14 वाला मजा…

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *