Google ने भारत के ये 10 ऐप्स प्ले स्टोर से हटाए! जानें वजह….

Google ने भारत के ये 10 ऐप्स प्ले स्टोर से हटाए! जानें वजह….

Google : हटाए गए ऐप्स में कुकू एफएम, भारत मैट्रिमोनी, शादी.कॉम, न्याबा.कॉम, 99 एकड़, ट्रूली मेडले, क्वेक क्वेक, स्टेज, एएलटी (ऑल्ट बालाजी) भी शामिल हैं।

Google
Google

गूगल ने कई डेटिंग ऐप्स समेत 10 भारतीय कंपनियों के ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है। इनमें भारत मैट्रिमोनी जैसे लोकप्रिय ऐप भी शामिल हैं। प्ले स्टोर सेवा शुल्क के भुगतान को लेकर चल रहे विवाद के कारण इन ऐप्स को हटा दिया गया है। गूगल का कहना है कि ऐप्स बिलिंग पॉलिसी का पालन नहीं कर रहे हैं। कंपनी ने उदाहरण देते हुए कहा कि 2 लाख से ज्यादा भारतीय ऐप्स बिलिंग पॉलिसी का पालन करते हैं लेकिन ये 10 ऐप्स ऐसा नहीं करते हैं।

यह भी पढ़ें : Maha Shivaratri : महाशिवरात्रि के दिन डायबिटीज पेशेंट इस तरह रखें व्रत, नहीं होगी कोई समस्या..

Google ने इन ऐप्स को Google Play Store से हटाने के बारे में एक ब्लॉग भी पोस्ट किया है। जिसमें लिखा है कि ऐप्स को बिलिंग पॉलिसी को लेकर तैयारी करने के लिए 3 साल से ज्यादा का समय दिया गया था. लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी ऐप्स पॉलिसी का पालन नहीं कर रहे हैं. जिसके बाद तीन हफ्ते बीत गए. रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने प्ले स्टोर से ऐप्स हटाने से पहले यह ब्लॉग पोस्ट जारी किया था।

Google
Google

कंपनी ने कई मशहूर ऐप्स को Google Play Store से हटा दिया है। इन ऐप्स में कुकू एफएम, भारत मैट्रिमोनी, शादी डॉट कॉम, नौकरी डॉट कॉम, 99 एकड़, ट्रूली मैडली, क्वैक क्वैक, स्टेज, एएलटी (ऑल्ट बालाजी) भी शामिल हैं। इस कार्रवाई के बाद ऐप मालिकों की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है. कूकु एफएम के सीईओ चांद बिसु ने गूगल को खराब कंपनी करार दिया है। बिसु ने कहा कि बिजनेस के लिहाज से गूगल बेहद खराब कंपनी है. यह भारत में संपूर्ण स्टार्टअप सिस्टम को नियंत्रित करता है। 2019 में कंपनी ने 25 दिन का नोटिस दिए बिना ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया था।

Google
Google

शादी.कॉम के संस्थापक अनुपम मित्तल ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर लिखा कि यह भारतीय इंटरनेट के लिए एक काला दिन है। Google ने कई प्रमुख ऐप्स को Play Store से हटा दिया है, जबकि कानूनी सुनवाई अभी भी जारी है। वहीं कोर्ट ने भी गूगल के पक्ष में फैसला सुनाया. अदालत ने बिलिंग नीति को चुनौती देने वाली ऐप मालिकों की याचिका खारिज कर दी। जिसके बाद ऐप्स की अर्जी सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कोई अंतिम आदेश जारी नहीं किया और सुनवाई 9 मार्च तक बढ़ा दी.

दरअसल, गूगल भारतीय स्टार्टअप्स पर इन-ऐप पेमेंट के लिए 11% से 26% तक की फीस लगा रहा है। भारत मैट्रिमोनी, क्रिश्चियन मैट्रिमोनी, मुस्लिम मैट्रिमोनी और जोड़ी जैसे डेटिंग ऐप्स को गूगल ने शुक्रवार को डिलीट कर दिया। जिसके बाद Matrimony.com के शेयरों में 2.7 फीसदी की गिरावट आई। जबकि इंफोएज के शेयर 1.5% गिरे। कंपनी भारतीय बाजार पर राज कर रही है क्योंकि भारतीय बाजार में 94 प्रतिशत फोन इसके एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म पर आधारित हैं।

more article : Holashtak : होली से 8 दिन पहले लग जाएगा होलाष्टक, इन 8 दिनों में किन कार्यों पर लग जाएगी रोक? जानें कारण…

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *