Electric two-wheeler हुए 22% तक सस्तें, जानिए कब तक होगी पेट्रोल व्हीकल के बाराबर कीमत….

Electric two-wheeler हुए 22% तक सस्तें, जानिए कब तक होगी पेट्रोल व्हीकल के बाराबर कीमत….

Electric two-wheeler : एक समय था जब इलेक्ट्रिक स्कूटर की कीमत काफी अधिक थी, लेकिन लिथियम आयन बैटरी के उत्पादन में वृद्धि ने इलेक्ट्रिक वाहनों की लागत में काफी कमी ला दी है। आपको बता दें कि इलेक्ट्रिक वाहन की 40 फीसदी कीमत बैटरी की होती है।

Electric two-wheeler : देश में इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर खरीदना अब और सस्ता हो गया है। कई इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन निर्माताओं ने 2-3 महीनों में अपने प्रमुख मॉडलों की कीमतों में 20-25 हजार रुपये तक की बढ़ोतरी की है। (22%) की कमी हुई है। उन्होंने एंट्री लेवल मॉडल्स की कीमतों में औसतन 15-17% की कमी की है। कीमत में कटौती के पीछे मुख्य कारण ई-दोपहिया वाहनों की बिक्री बढ़ाना है ताकि उन्हें और अधिक किफायती बनाया जा सके।

Electric two-wheeler
Electric two-wheeler

देश में पहले से स्थापित पेट्रोल दोपहिया वाहन निर्माता कंपनियों ने भी इलेक्ट्रिक दोपहिया उत्पादन में आक्रामक नीति अपनाई है। जिसके कारण इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ती जा रही है। निर्माता बैटरी की गिरती कीमतों का लाभ उपभोक्ताओं को भी दे रहे हैं। साथ ही बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की कीमत में गिरावट आई है।

यह भी पढ़ें : Stock Market : Sensex-Nifty को इन शेयरों से मिल रहा सपोर्ट, निवेशकों ने कमाए ₹73000 हजार करोड़..

EV की कीमत क्यों घटी?

Electric two-wheeler
Electric two-wheeler

ईवी बैटरी विशेषज्ञ और ईवी एनर्जी के सीईओ संयोग तिवारी के अनुसार, भारत सहित दुनिया भर के कई देशों में लिथियम भंडार की खोज के बाद, ईवी बैटरी क्षेत्र में प्रभुत्व रखने वाले चीनी निर्माताओं को अपनी बाजार हिस्सेदारी में कमी देखने को मिल रही है। इसके अलावा लिथियम आयन बैटरी के विकल्प के रूप में अन्य बैटरियां भी तेजी से विकसित हो रही हैं, इसलिए लिथियम आयन बैटरी की कीमतें गिर रही हैं। इसके अलावा, इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन निर्माताओं ने भी मार्च के अंत से पहले स्टॉक खत्म करने के लिए अपने मॉडलों की कीमतें कम कर दी हैं।

2-3 साल में पेट्रोल की कीमत टू-व्हीलर जितनी हो जाएगी।

Electric two-wheeler
Electric two-wheeler

पेट्रोल दोपहिया वाहन निर्माता भी ई-दोपहिया मॉडलों की संख्या बढ़ा रहे हैं। फिलहाल इनकी हिस्सेदारी करीब 5 फीसदी है. 2-3 साल में यह कई गुना बढ़ जाएगा. पेट्रोल दोपहिया वाहनों की कीमत में भी कमी आ सकती है. आपको बता दें कि ई-टू-व्हीलर की कीमत में बैटरी की हिस्सेदारी 40 फीसदी से ज्यादा होती है। पिछले 5-6 महीनों में चीनी बैटरी की कीमतों में लगभग 40% से 50% की गिरावट आई है। इसके साथ ही हमने संपूर्ण उत्पाद श्रृंखला की कीमतों में 15% की कमी की है।

more article : Electric Car : Tesla का सपना तोड़ने आ रही ये धांसू इलेक्ट्रिक कार, फुल चार्ज में दौडे़गी 570 किमी

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *