रोज़ सुबह उठकर करें ये मंत्र का जाप, जीवन में कभी नहीं आएगी परेशानी और दुःख

रोज़ सुबह उठकर करें ये मंत्र का जाप, जीवन में कभी नहीं आएगी परेशानी और दुःख

हम जानते हैं कि आजकल हर किसी को ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना है तो आइए आज हम आपको बताते हैं। वहीं परिवार में हर समय अशांति का माहौल बना रहता है हिंदू धर्म में कुंडली, ग्रह नक्षत्र, राशि आदि को बहुत अधिक माना जाता है। और ऐसी मान्यता है कि जिन लोगों की कुंडली में ग्रह दोष होते हैं उन्हें देवी-देवताओं का आशीर्वाद नहीं मिलता है। साथ ही ऐसे लोगों को उनके किसी भी अच्छे कर्म का फल नहीं मिलता है। इसलिए लोगों के लिए सबसे जरूरी है कि पहले अपनी कुंडली का दोष ठीक कर लें।

ऐसा करने में विफलता किसी के जीवन में कई समस्याओं का कारण बन सकती है, जिसमें हर प्रयास में विफलता भी शामिल है। साथ ही घर और परिवार में हर समय अशांति का माहौल बना रहता है कुंडलिनी दोष और दुर्भाग्य से छुटकारा पाने के कई उपाय हैं। यदि कुंडली दोष से पीड़ित व्यक्ति इन उपायों को अपनाता है तो उसका जीवन पहले जैसा हो जाता है। आम धारणा यह है कि देवी-देवताओं की पूजा पाठ और ध्यान के बाद ही करनी चाहिए।

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शुभ कार्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो स्नान करने से पहले अवश्य करना चाहिए। इससे व्यक्ति के जीवन में कुछ ही समय में खुशियां आ जाएंगी, जिससे लोग कुंडलिनी दोष और दुर्भाग्य से छुटकारा पाने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं। ऐसा माना जाता है कि अगर कुंडली दोष से पीड़ित व्यक्ति इन उपायों को अपनाता है तो उसका जीवन पहले जैसा हो जाता है।

आम धारणा है कि सुबह स्नान के बाद ही देवी-देवताओं की पूजा करनी चाहिए। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शुभ कार्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो स्नान करने से पहले अवश्य करना चाहिए। यह किसी व्यक्ति के जीवन में कम समय में खुशियाँ लाएगा। हममें से किसी को अपने जीवन में समस्याएँ कम होती हैं, किसी को अपने जीवन में समस्याएँ अधिक होती हैं।

और फिर चाहे वह महिला हो या पुरुष, यह व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करता है। तो इसके लिए शास्त्रों के अनुसार सुबह उठकर तुरंत इस मंत्र का जाप करना चाहिए। इसलिए ज्यादातर लोग सुबह उठकर फोन उठाते हैं।

और कई लोगों की आदत होती है कि वे पहले अपना चेहरा आईने में देखते हैं। लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि जो लोग सिर्फ खुद से प्यार करते हैं, वे सुबह उठकर भगवान का नाम लेने के बजाय अपना चेहरा देखते हैं। लेकिन आज जो हम आपको बताएंगे, अगर आप वो करेंगे तो आपके घर में कभी भी पैसों की कमी नहीं होगी मतलब और प्रभाव दोस्तों, हम मानते हैं कि इस मंत्र का जाप करने से सभी देवता प्रसन्न होते हैं।

इसे नौ ग्रहों की कृपा भी प्राप्त होती है। इस मंत्र का शाब्दिक अर्थ है, ब्रह्मा, विष्णु, शिव, सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु सभी मेरी सुबह मंगल बनाते हैं। जो कोई भी सुबह उठते ही इस मंत्र का जाप करता है उसे जीवन के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है इसके अलावा एक और मंत्र भी बहुत फायदेमंद होता है। इसके अनुसार हमारे हाथों में तीन देवी-देवताओं का वास होता है।

इसलिए हमें इसे रोज सुबह देखना चाहिए और इस मंत्र का जाप करना चाहिए। दोस्तों हमारी हथेली में सबसे आगे लक्ष्मी होती है, केंद्र में सरस्वती होती है और हथेली के नीचे भगवान विष्णु होते हैं। इसलिए सुबह उठने के बाद सबसे पहले अपनी हथेली को देखें और इस मंत्र का जाप करें।हमारे हिंदू शास्त्रों के अनुसार व्यक्ति को सुबह उठकर अपनी हथेलियों को देखना चाहिए न कि पहले अपने चेहरे को।

यह आपको अजीब लग सकता है, लेकिन यह बिल्कुल सच है।सुबह उठकर अपनी हथेलियों को देखने के कई फायदे हैं। इन फायदों के बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे जिनके बारे में आज हम आपको बताएंगे।शास्त्रों के अनुसार हमारे भाग्य की रेखाएं हमारे हाथ में होती हैं। इसलिए अगर आप सुबह उठकर सबसे पहले अपने भाग्य की रेखाएं देखेंगे तो इससे आपको ही फायदा होगा। सुबह उठकर अपनी हथेलियों को देखने के क्या फायदे हैं?

मंत्र, सरस्वती कर्मुले तू गोविंदः प्रभात करदर्शनम् लक्ष्मी करम में करग फूलदान में। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, हर पुरुष और महिला को ब्रह्म मुहूर्त यानी सूर्योदय से पहले उठना चाहिए। जो लोग सुबह देर से सोते हैं उनके जीवन में बुद्धि कम और दुख अधिक होता है। इसलिए गलती से भी सुबह देर तक नहीं सोना चाहिए।

हमारे प्राचीन शास्त्रों में कहा गया है कि हथेली के मध्य में महालक्ष्मी का वास होता है और ऊपर के भाग में सरस्वती का वास होता है। इसका मतलब है कि अगर आप सुबह उठकर सबसे पहले अपनी हथेली को देखेंगे तो इससे आपको माता रानी के दर्शन होंगे और आपके सभी कार्य सफल होंगे। इसलिए हो सके तो सुबह उठकर सबसे पहले अपनी हथेली को देखें।ऐसा भी कहा जाता है कि हमारी हथेलियों में देवताओं का वास होता है।

अगर आप सुबह उठकर अपनी हथेली देखते हैं तो दिन भर में आप जो कुछ भी करते हैं उसके लिए हमेशा अच्छा रहेगा। जब तक आप ऐसा करते रहेंगे, आपके जीवन में कोई काम नहीं छूटेगा और आपका भाग्य हमेशा आपके साथ रहेगा जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र में भगवान विष्णु के 1000 नामों का वर्णन है। इस मंत्र का जाप करने से उन्हें विष्णु सहस्रनाम के जाप से जितना फल मिलता है उतना ही फल मिलता है।

विज्ञान में हथेली की दृष्टि का अर्थ है कि सुबह उठने के बाद सबसे पहले जो काम करना है वह है हथेलियों को आपस में रगड़कर आंखों पर लगाना। सुबह उठकर हथेलियों को देखने का एक कारण विज्ञान भी है। ऐसा रोजाना करने से घर में हमेशा लक्ष्मी का वास रहता है।

उपरोक्त श्लोक को बोलते हुए हाथ जोड़कर दर्शन करना चाहिए। यह शास्त्रीय कथन बहुत अर्थपूर्ण है। इससे मानव मन में आत्मनिर्भरता और आत्मनिर्भरता की भावना बढ़ती है। वह जीवन में हर कार्य को करने के लिए दूसरों पर भरोसा न करते हुए अपने हाथों को देखकर विद्वान बन जाती है। इस संसार में मनुष्य जो भी अच्छे या बुरे कर्म करता है, वह अपने हाथों से करता है।ये हाथ अर्थ, कर्म और मोक्ष की कुंजी हैं।

मूल श्लोक में कहा गया है कि मानव जीवन की सफलता के लिए संसार में तीन चीजों की आवश्यकता होती है। धन, ज्ञान और ईश्वर के बिना जीवन अधूरा है। ये तीन उपलब्ध चीजें हमारे हाथ में निवास करती हैं, जो कर्म के प्रतीक हैं। इसलिए हाथ से अच्छे कर्म करने से हमें ये चीजें मिलती हैं। इसलिए हस्त अवलोकन की भावना को श्लोक बोलकर आत्मा को आत्मसात करना चाहिए। और मुझे ठान लेना चाहिए कि मैं दूसरों पर निर्भर नहीं रहूंगा, मैं अपने हाथों पर निर्भर रहूंगा, मैं गरीबी को दूर करने के लिए कड़ी मेहनत करूंगा और अंत में मैं अपना गोविंद पाऊंगा और जीवन से मुक्त हो जाऊंगा।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *